Dindori News: अपने ही समाज से सात पीढ़ी से बहिष्कृत लोगों ने छुए कलेक्टर के पैर, कहा- साहब! कर लेंगे मतांतरण


Dindori Rathod News धनुआसागर के लोग शिकायत करने आए, वे 150 वर्ष से समाज से बहिष्कृत हैं। सात पीढ़ी पहले उनके एक पूर्वज ने गलती से समाज से बाहर की महिला से विवाह कर लिया था। तब से वे लोग राठौर समाज से बहिष्कृत हैं।

By Neeraj Pandey

Publish Date: Tue, 13 Feb 2024 10:16 PM (IST)

Updated Date: Tue, 13 Feb 2024 10:16 PM (IST)

Dindori News: अपने ही समाज से सात पीढ़ी से बहिष्कृत लोगों ने छुए कलेक्टर के पैर, कहा- साहब! कर लेंगे मतांतरण
राठौर समाज से बहिष्कृत, पूर्वज के गलती की सजा

HighLights

  1. जनसुनवाई में पहुंचे राठौर समाज के लोग, कलेक्टर के पैर छूकर लगाई गुहार
  2. राठौर समाज से बहिष्कृत, पूर्वज के गलती की सजा
  3. दोनों पक्षों के बीच मामला सुलझा लिए जाने का आश्वासन

डिंडौरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जिला मुख्यालय के समीपस्थ ग्राम धनुआसागर के समाज से बहिष्कृत राठौर समाज के करीब डेढ़ सौ लोग मंगलवार को जनसुनवाई में कलेक्ट्रेट पहुंचे। पीड़ित लोगों ने कलेक्टर के पैर छूकर कहा कि वे अधिकारियों से शिकायत करते-करते थक चुके हैं। अब यदि समाज में नहीं मिलाया गया तो वे लोग ईसाई धर्म अपना लेंगे, जिसकी जवाबदारी राठौर समाज के पदाधिकारियों और जिला प्रशासन की होगी।

कलेक्टर विकास मिश्रा ने संज्ञान लेते हुए कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि मतांतरण जैसी कोई बात नहीं है। एसडीएम न्यायालय में मामला दर्ज कर लिया गया है। दोनों पक्षों के बीच मामला सुलझा लिया जाएगा।

एक की गलती, सजा सबको

ग्राम धनुआसागर निवासी बिहारी लाल ने बताया कि सात पीढ़ी पहले उनके एक पूर्वज ने गलती से समाज से बाहर की महिला से विवाह कर लिया था। तब से वे लोग राठौर समाज से बहिष्कृत हैं। उन सभी ने कई बार समाज के जिम्मेदार लोगों से समाज में मिलाने की मिन्नतें कीं।

दो लाख रुपये खर्च करवाए, फिर समाज से निकाला

बिहारी लाल का कहना है कि 13 मार्च 2022 को तत्कालीन सरपंच राम प्रभा और पंचों ने बैठक कर वंशावली के आधार पर गंगा स्नान, राम कीर्तन, भंडारा, सामाजिक भोज और धर्मशाला के नाम पर दो लाख रुपये दान करने की सहमति बनाकर समाज में शामिल कर लिया था। समाज के लोग भी उन्हें धार्मिक और सामाजिक आयोजनों में बुलाने लगे, लेकिन वर्ष 2023 में जब कृष्णा परमार राठौर समाज के अध्यक्ष बने तो उन्होंने फिर सामाजिक बैठक बुलाकर सामाजिक बहिष्कार का फरमान सुना दिया। तब से वे समाज से बाहर हैं।

मतांतरण करने जैसी कोई बात नहीं थी। एसडीएम न्यायालय में यह मामला भी दर्ज हो गया है। मैंने दोनों पक्षों से बात कर ली है। दोनों पक्षों के बीच विवाद लगभग सुलझा लिया गया है।

विकास मिश्रा, कलेक्टर डिंडौरी।

धनुआसागर के जो लोग शिकायत करने आए थे, वे 150 वर्ष से समाज से बहिष्कृत हैं। ये हैं तो राठौर समाज के लेकिन इनसे हमारा रोटी-बेटी का संबंध कभी नहीं रहा। इन लोगों ने किसको पैसा दिया, क्या किया, हम लोगों को जानकारी नहीं है। हम क्यों इन्हें समाज से बाहर करेंगे। हम तो इन परिवारों की मदद करते हैं। इन्हें कोई गुमराह कर रहा है।

कृष्णा परमार, अध्यक्ष, राठौर समाज।

  • ABOUT THE AUTHOR

    पत्रकारिता के क्षेत्र में डेस्क और ग्राउंड पर 4 सालों से काम कर रहे हैं। अगस्त 2023 से नईदुनिया की डिजिटल टीम में बतौर सब एडिटर जुड़े हैं। इससे पहले ETV Bharat में एक साल कार्य किया। लोकसभा और उत्तर प्रदेश, मध्



Source link

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.