Mahakal Temple Ujjain: आज महाकाल के आंगन में झूमेगा वसंत, भस्म आरती में मनाया जाएगा उत्सव


भगवान को केसरिया पकवानों का भोग लगाया जाता है। बुधवार को तड़के भस्म आरती में भगवान का केसरिया पंचामृत से अभिषेक होगा। भगवान को पीतांबर धारण कराकर वासंती फूलों से शृंगार किया जाएगा। पुजारी आरती में पीले रंग के सोले कपड़े कर उत्सव मनाएंगे। पुष्टिमार्गीय वैष्णव मंदिरों में वसंत पंचमी से 40 दिवसीय फाग उत्सव की शुरुआत होगी।

By Paras Pandey

Publish Date: Wed, 14 Feb 2024 12:01 AM (IST)

Updated Date: Wed, 14 Feb 2024 12:01 AM (IST)

Mahakal Temple Ujjain: आज महाकाल के आंगन में झूमेगा वसंत, भस्म आरती में मनाया जाएगा उत्सव
अवंतिकानाथ को पीले फूल व गुलाल अर्पित करेंगे पुजारी

उज्जैन, (नईदुनिया प्रतिनिधि)। ऋतुराज वसंत के आगमन का पर्व वसंत पंचमी बुधवार को मनाया जाएगा। ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में सबसे पहले भस्म आरती में वसंत उत्सव मनाया जाएगा। पुजारी केसरिया पंचामृत से भगवान का अभिषेक पूजन कर भगवान को वसंत के पीले फूल व गुलाल अर्पित करेंगे।

पुष्टिमार्गीय वैष्णव मंदिर में 40 दिवसीय फाग उत्सव की शुरुआत होगी। सिंहपुरी स्थित प्राचीन सरस्वती माता मंदिर में देवी सरस्वती का स्याही से अभिषेक होगा।

गुरुकुल, वेद विद्यालय व स्कूल कालेजों में ज्ञान की देवी मां सरस्वती की पूजा-अर्चना की जाएगी।पं.महेश पुजारी ने बताया ज्योतिर्लिंग की पूजन परंपरा में वसंत पंचमी पर भगवान महाकाल को वसंत के रूप में सरसों के पीले फूल तथा गुलाल अर्पित की जाती है।

naidunia_image

भगवान को केसरिया पकवानों का भोग लगाया जाता है। बुधवार को तड़के भस्म आरती में भगवान का केसरिया पंचामृत से अभिषेक होगा। भगवान को पीतांबर धारण कराकर वासंती फूलों से शृंगार किया जाएगा। पुजारी आरती में पीले रंग के सोले कपड़े कर उत्सव मनाएंगे। पुष्टिमार्गीय वैष्णव मंदिरों में वसंत पंचमी से 40 दिवसीय फाग उत्सव की शुरुआत होगी।

भगवान कृष्ण को लगेगा केसरिया भात का भोग

भगवान श्रीकृष्ण की शिक्षा स्थली सांदीपनि आश्रम में भी बुधवार सुबह वसंत उत्सव मनाया जाएगा। पुजारी पं.रूपम व्यास ने बताया सुबह केसर व सरसों के फूल मिश्रित जल से भगवान का अभिषेक-पूजन होगा। भगवान को पीतांबरी पोशाक धारण कराई जाएगी।

पश्चात केसरिया भात का भोग लगाकर आरती की जाएगी। भक्तों को महाप्रसादी का वितरण होगा। साल में केवल एक बार वसंत पंचमी के दिन भगवान को केसरिया भात का भोग लगाया जाता है।



Source link

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.