MP News: बाजार अस्थिर होने से IIM इंदौर के छात्रों के पैकेज में गिरावट, 150 से ज्यादा कंपनियों ने 594 विद्यार्थियों को दिए नौकरियों के अवसर


पैकेज में कटौती – आईटी और टेक्नोलॉजी सेक्टर की कंपनियों में नौकरियां नहीं निकलने से आईआईटी के प्लेसमेंट पर असर दिखा है। पिछले साल की तुलना में विद्यार्थियों को सिर्फ एक-एक कंपनियों से नौकरी के अवसर मिले हैं। नौकरियां कम होने से सालाना वेतन पर भी असर दिखा है।

2022-24 सत्र में औसतन 25.68 लाख और न्यूनतम 24.50 लाख सालाना वेतन है, जो पिछले सत्र की तुलना में कम रहा है। 2021-23 सत्र में औसतन 30.21 लाख और न्यूनतम 27.20 लाख का पैकेज था। उच्चतम पैकेज एक करोड़ प्रति वर्ष रहा है। यह पिछली बार एक करोड़ 14 लाख रुपये था।

50 नई कंपनियां पहुंचीं – शैक्षणिक प्रयासों में उत्कृष्टता के लिए संस्थान के प्रयासों ने नियोक्ताओं की रुचि और उत्साह को और भी बढ़ाया। इस वर्ष परामर्श, वित्त, सामान्य प्रबंधन, मानव संसाधन और संचालन, आइटी, विश्लेषिकी और उत्पाद प्रबंधन, खरीद और बिक्री जैसे अन्य क्षेत्रों की 150 से ज्यादा कंपनियों ने विभिन्न पदों पर विद्यार्थियों को चुना है। खास बात यह है कि इस बार 50 से ज्यादा ऐसी कंपनियां हैं, जो पहली बार आईआईटी में विद्यार्थियों को अपने मानकों पर परखने पहुंचीं।

इन क्षेत्रों की कंपनियों में मिली नौकरियां

– सेल्स और मार्केटिंग : 19% : आदित्य बिड़ला फैशन एंड रिटेल लिमिटेड, एफिनिटी ग्लोबल, एशियन पेंट्स, एस्ट्राजेनेका, बजाज ऑटो, बजाज कंज्यूमर केयर।

– कंसल्टेंसी : 25% : एक्सचेंज स्ट्रेटेजी, एक्सचेंज टेक कंसल्टिंग, एक्यूवान कंसल्टिंग, बोस्टन कंसल्टिंग ग्रुप, डेलाइट इंडिया, डेलाइट यूएसआइ, ड्रोएज ग्रुप, एवरेस्ट ग्रुप, एवरसाना आदि कंपनी।

– आइटी/एनालिटिक्स: 12% : एक्सट्रिया, कैप जेमिनी क्रिसलिस, कारदेखो, काग्निजेंट, डेटालिंक, ईएक्सएल एनालिटिक्स, जीई हेल्थकेयर, जेनपैक्ट, हीरो मोटोकॉर्प, एचसीएल सॉफ्टवेयर, एचसीएल टेक, हेक्सावेयर, आईडीएफसी फर्स्ट बैंक, इंक्चर, मैजिक ब्रिक्स।

– फाइनेंस : 19 % : सेबर पार्टनर्स, एसबीआइ सिक्योरिटी, स्पार्क कैपिटल एडवाइजर्स, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक, द डीई शा ग्रुप, उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक, वननम और यस बैंक।

– एचआर : 25 % :आरती इंडस्ट्रीज, एयरटेल, एमवे, बायोकान, बीएलएस इंटरनेशनल सर्विसेज, कैप जेमिनी ईएलआइटीई, सेंचुरी रियल एस्टेट होल्डिंग्स, सिप्ला, एवरेस्ट, डीसीएम श्रीराम।

नहीं निकाली नौकरियां

आईआईएम इंदौर के निदेशक प्रो. हिमांशु राय का कहना है कि टेक्नोलॉजी सेक्टर की कंपनियों को फंडिंग बंद हुई है। बाजार अस्थिर होने से इन कंपनियों ने कुछ समय के लिए नौकरियां नहीं निकाली हैं। इसका असर प्लेसमेंट पर दिखा है। बाकी कंपनियों ने भी नौकरियां और सालाना वेतन कम किया है।

हालांकि अन्य शैक्षणिक संस्थानों की तुलना में आईआईएम इंदौर के दोनों प्रोग्राम के छात्र-छात्राओं को नौकरियों के अवसर प्रदान हुए हैं। अगले सत्र में प्लेसमेंट सुधरने की उम्मीद है, क्योंकि केंद्र सरकार इंफ्रास्ट्रक्चर पर अधिक ध्यान दे रही है।



Source link

About The Author

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.